#htmlcaption1 #htmlcaption2 #htmlcaption3 #htmlcaption4 #htmlcaption5 #htmlcaption6 #htmlcaption7 #htmlcaption8

Saturday, 23 January 2016

अच्युताय एप्पल जैम - Achyutaya Apple Jam

अच्युताय एप्पल जैम - Achyutaya Apple Jam



सेब जैम में प्रचुर मात्रा में जीवनीय तत्त्व एवं खनिज पाये जाते है।

सेब जैम हृदय, मस्तिष्क एवं आँतों को बल देता है।

सेब जैम से कोलेस्ट्राल कम होता है और हार्ट-अटैक से रक्षा होती है।

सेब जैम आँतें, फेफड़े एवं पौरुषग्रंथि के कैंसर से रक्षा करता है।


सेब जैम से स्मृतिशक्ति बनी रहती है। लौह तत्त्व बढ़कर खुन की कमी दूर होती है।


सेब जैम मोटापा कम होता है और अति दुर्बल रोगियों का बल बढ़ता है।




 

अच्युताय अश्वगंधा टेबलेट - Achyutaya Ashwagandha Tablet

अच्युताय अश्वगंधा टेबलेट 
बलवर्धक पुष्टिदायी दिव्य रसायन  
Achyutaya Ashwagandha Tablet



अश्वगंधा टेबलेट एक बलवर्धक व पुष्टिदायक श्रेष्ठ रसायन है। यह मधुर व स्निग्ध होने के कारण वात शमन करने वाला एवं रस - रक्तादि सप्तधातुओं का पोषण करने वाला है।

अश्वगंधा टेबलेट से विशेषतः मांस व शुक्रधातु की वृद्धि होती है। यह शक्तिवर्धक, वीर्यवर्धक, स्नायु और मांसपेशियों को ताकत देनेवाला व कद बढ़ाने वाला एक पौष्टिक रसायन है।

अश्वगंधा टेबलेट धातु की कमजोरी, शारीरिक - मानसिक कमजोरी आदि में भी लाभदायी है।

अश्वगंधा टेबलेट बालकों के सर्वांगीण विकास के लिए वरदानस्वरुप है।

  





 

Wednesday, 20 January 2016

अच्युताय आंवला भृंगराज केश तेल - Achyutaya Amla Bhringraj Kesh Tel

अच्युताय आंवला भृंगराज केश तेल 
Achyutaya Amla Bhringraj Kesh Tel

बढिया ही नही सबसे अच्छा 



अच्युताय आँवला-भृंगराज केश तेल बालों के लिए उत्तम तेल है।

अच्युताय आँवला-भृंगराज केश तेल सिर पर लगाने से बाल बढ़ते है।

सिर का दर्द, बाल सफेद होना, गिरना जैसे रोग अच्छे होते है।

अच्युताय आँवला-भृंगराज केश तेल से मस्तिष्क की कमजोरी नष्ट होकर स्मरणशक्ति बढ़ती है।

सिर में रुसी नहीं होती है।


अच्युताय दन्त सुरक्षा तेल - Achyutaya Dant Suraksha Tel

अच्युताय दन्त सुरक्षा तेल - Achyutaya Dant Suraksha Tel

पायोरिया को दूर कर मसुडो को करे मजबूत 
 

अच्युताय दंत सुरक्षा तेल से पायरिया, मसूड़ों का दर्द तथा दाँतों की सभी तकलीफों में मसाज करने से बहुत लाभ होता है ।





Monday, 18 January 2016

अनानास - PINEAPPLE

 अनानास - PINEAPPLE
सबसे बेहतरीन स्वाद व पौष्टिकता से परिपूर्ण और उत्तम स्वास्थ्य हेतु 



<>   अनानास (पाइनएप्पल) औषधीय गुणों से भरपूर फल है। अनानास शरीर के भीतरी विषो को बाहर निकालता है। इसमें क्लोरीन की भरपूर मात्रा होती है। साथ ही पित्त विकारों में विशेष रुप से और पीलिया (पांडु) रोगों में लाभकारी है। ये गले एवं मूत्र रोगों में लाभदायक है। इसके अलावा ये हड्डीयों को मजबूत बनाता है।

<>    अनानास में प्रचुर मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है। यह शरीर की हड्डीयों को मजबूत बनाने और शरीर को ऊर्जा प्रदान करने का काम करता है।

<>   अनानास रस के सेवन से दिन भर के लिए आवश्यक मैग्नीशियम की पूर्ति होती है। अनानास में पाया जाने वाला ब्रोमिलेन सर्दी और खाँसी, सूजन, गले में खराश और गठिया में लाभदायक होता है। यह पाचन में भी उपयोगी होता है।

<>    अनानास अपने गुणों के कारण नेत्र ज्योति के लिए भी उपयोगी होता है। दिन में तीन बार रस लेने से बढ़ती उम्र के साथ आँखों की रोशनी कम हो जाने का खतरा कम हो जाता है।  

<>    आस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों के शोधों के अनुसार यह कैंसर के खतरे को भी कम करता है। ये उच्च एंटीआक्सीडेंट का स्त्रोत है व इसमें विटामिन ‘सी’ प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और इससे सर्दी समेत कई अन्य संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।

<>    एक कप अनानास रस पीने से दिनभर के लिए जरूरी मैग्नीशियम के 73 प्रतिशत की पूर्ति होती है।

<>    आपके लिए सबसे बेहतरीन स्वाद व पौष्टिकता से परिपूर्ण और उत्तम स्वास्थ्य हेतु पाइनएप्पल ड्रिंक प्रस्तुत है।



 


Friday, 14 August 2015

शहद की बेहतरीन खूबियाँ और प्रयोग

>>>  शहद की बेहतरीन खूबियाँ और प्रयोग <<<


























<> अदरक का रस और शहद मिलाकर सेवन करने से खांसी-जुकाम में बहुत आराम मिलता है.

<> मुहांसों पर रात में सोते समय दालचीनी चूर्ण और शहद मिलाकर लगायें और सुबह धो लें, मुहांसे ठीक होंगे और दाग भी नहीं रहेंगे.

<> हलके गुनगुने पानी में शहद और नीम्बू का रस मिलाकर सुबह पीने से वजन कम होता है,कब्ज दूर होता है, साथ ही शरीर से विषैले तत्व बाहर निकल जाते है.

<> होठों पर शहद लगाने से होंठ नर्म,मुलायम होते हैं.

<> एक चम्मच लहसुन का रस और शहद मिलाकर दिन में दो बार सुबह शाम पीने से ब्लड प्रेशर काबू में रहता है .



Thursday, 13 August 2015

शरीर को पुनः नया बना देता है पुनर्नवा



>>> शरीर को पुनः नया बना देता है  पुनर्नवा <<<


























<> पुनर्नवा सुजन को नष्ट करती है यह ह्रदय रोग व किडनी के विकारों में (पथरी,किडनी फेल्युअर, किडनी की सुजन आदि) में विशेष लाभदायी है 

<> प्रोस्टेट ग्रंथि में वृद्धि होने पर पुनर्नवा की जड़ के चूर्ण का सेवन करें

<> संधिवात में पुनर्नवा के पत्तों की भाजी सोंठ डालकर खायें।

<> पैर की एड़ी में वेदना होती हो तो पुनर्नवा में सिद्ध किया हुआ तेल पैर की एड़ी पर लगाए एवं सेंक करें।

<> मोटापा दूर करने के लिए पुनर्नवा के 5 ग्राम चूर्ण में 10 ग्राम शहद मिलाकर सुबह-शाम लें। पुनर्नवा की सब्जी बना कर खायें।

<> पेट के रोगः गोमूत्र एवं पुनर्नवा का रस समान मात्रा में मिलाकर पियें।






दिमाग की शक्‍ति बढाए ब्राह्मी



>>> दिमाग की शक्‍ति बढाए ब्राह्मी <<<



























जिन बच्चे पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे पाते हैं या उनमें एकाग्रता की समस्या है तो उन्हें 200 मिली गर्म दूध में 1 चम्मच ब्राह्मी का चूर्ण हर रोज खाने के लिए दें।
लगातार मानसिक कार्य करने से थकान हो जाने पर जब व्यक्ति की कार्यक्षमता घट जाती है तो ब्राह्मी के उपयोग से आश्चर्यजनक लाभ होता है।
ब्राह्मी की ताजी पत्तियों का स्वरस 2.5 मिलीग्राम मात्रा में शहद लेकर सेवन करें, इससे भी रक्तचाप नियंत्रित रहेगा।
यदि पेशाब में तकलीफ हो या पेशाब रूक रहा हो तो बस ब्राह्मी के दो चम्मच स्वरस में मिश्री मिलाकर दें। इससे पेशाब खुल कर आएगा।

जिन व्यक्तियों को अनिंद्रा से सम्बन्धित शिकायत रहती है, उन्हे यह प्रयोग करना चाहिए। सोने से 1 घन्टा पूर्व 250 मिली0 गर्म दूध में 1 चम्मच ब्रहमी का चूर्ण मिलाकर नित्य सेवन करने से रात्रि में नींद अच्छी आती है


Tuesday, 11 August 2015

बिजली जैसी ताकत प्रदान करने वाली...मूसली

बिजली जैसी ताकत प्रदान करने वाली...मूसली 



<> यह उत्तम बलप्रद, पौष्टिक, रसायन, कांति-वर्धक एवं उत्कृष्ट वीर्यवर्धक है ।
<> नियमित सेवन से शरीर की सभी धातुओं का पोषण होकर शरीर सुदृढ़ बनता है ।
<> यह मांस-पेशी, अस्थियाँ एवं स्नायुओं की दुर्बलता दूर करके उनका बल बढाता है ।
<> दुर्बल रोगियों का वजन एवं बल बढाकर शरीर को मजबूत बनाता है ।
<> यह बुद्धिशक्ति एवं स्मृतिशक्ति बढाकर मानसिक क्षमता को बढाता है ।
<> शारीरिक-मानसिक दुर्बलता, स्वप्नदोष, पेशाब के साथ धातु जाना, वीर्य का पतलापन,शीघ्रपतन, शुक्राणु की कमी,में भी लाभदायी है ।

Monday, 10 August 2015

अच्युताय बल्य रसायन (Achyutaya Balya Rasayana)





 अच्युताय बल्य रसायन (Achyutaya Balya Rasayana)



यह चूर्ण उत्तम बलप्रद, पौष्टिक, रसायन, कांति-वर्धक एवं उत्कृष्ट वीर्यवर्धक है |

इसके नियमित सेवन से शरीर की सभी धातुओं का पोषण होकर शरीर सुदृढ़ बनता है एवं शरीर स्वस्थ व तंदुरस्त रहता है | यह मांस-पेशी, अस्थियाँ एवं स्नायुओं की दुर्बलता दूर करके उनका बल बढाता है | कृश एवं दुर्बल रोगियों का वजन एवं बल बढाकर शरीर को मजबूत बनाता है |

यह बुद्धिशक्ति एवं स्मृतिशक्ति बढाकर मानसिक क्षमता को बढाता है | मन में उत्साह, स्फूर्ति, आत्मविश्वास आदि गुणों का विकास करके विभिन्न प्रकार के मानसिक रोगों से रक्षा करता है |

यह शारीरिक-मानसिक दुर्बलता, स्वप्नदोष, पेशाब के साथ धातु जाना, वीर्य का पतलापन, शीघ्रपतन, शुक्राणु की कमी, समय पूर्व की वृद्धावस्था, खून की कमी एवं कमर दर्द आदि रोगों में भी लाभदायी है | यह शुक्राणुओं की वृद्धि करता है, अत: जिन पुरुषों में शुक्राणु की कमी (Oligospermia) के कारण संतान न होती हो उनके लिए भी अत्याधिक लाभप्रद है |

यह रोगप्रतिकारक शक्ति बढाकर विभिन्न प्रकार के शारीरिक-मानसिक रोग एवं ऋतुपरिवर्तन जन्य रोगों से रक्षा करता है ||

सेवनविधि – 1 ग्लास दूध में 1 चम्मच शुद्ध घी तथा 5 ग्राम (1 चम्मच) बल्य रसायन चूर्ण मिलाकर रात को सोते समय (भोजन के डेढ़-दो घंटे बाद) लें |