slide

Thursday, 10 January 2013

ब्रह्मचर्य-रक्षा का मंत्र


ब्रह्मचर्य-रक्षा का मंत्र


ॐ नमो भगवते महाबले पराक्रमाय
मनोभिलाषतं मनः स्तंभ कुरु कुरु स्वाहा।
रोज दूध में निहारकर 21 बार इस मंत्र का जप करें और दूध पी लें। इससे ब्रह्मचर्य की रक्षा होती है। स्वभाव में आत्मसात् कर लेने जैसा यह नियम 






0 comments:

Post a Comment