Wednesday, 20 February 2013

वास्‍तु टिप्‍स के अनुसार ये चीजे ना रखें अपने घर में





वास्‍तु टिप्‍स के अनुसार ये चीजे ना रखें अपने घर में


चाइनीज फेंगशुई की ही तरह भारतीय वास्‍तु भी है। हिंदू परंपरा की यह रचना घर के प्राकृतिक बलों के साथ सद्भाव को बढ़ावा देने के लिये प्रयोग की जाती है। पुराने सालों से यह माना आता जा रहा है कि घर में कुछ समान ऐसे होते हैं जिनको रखने से हमारे घर और सदस्‍यों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। साथ ही यह भी माना जाता है कि अगर आप वास्‍तु के अनुसार टिप्‍स अपनाएंगे तो जिन्‍दगी में समृद्धि और खुशी बनी रहेगी। तो चलिये आज हम इसी के बारे में जानते हैं-

1.
महाभारत की छवि- अपने घर पर माहाभारत की किसी भी घटना की छवि ना रख और ना ही दीवार पर लगाएं। यह दिखाता है कि घर में परिवार वालों के बीच में मची कलह का कभी अंत नहीं हो सकेगा। अगर घर पर सुख-शांति चाहते हैं तो इसकी तस्‍वीर को ना लगाएं।

2. ताज महल- भले ही लोग ताज महल को प्‍यार का प्रतीक मान कर अपने घर पर रखते हों। लेकिन उन्‍हें यह समझना चाहिये कि ताज महल में शाहजहां ने अपनी बीवी मुमताज की समाधि बनवाई थी। इसलिये अपने घर पर ना तो ताजमहल का कोई फोटो लगाएं और ना ही कोई शो पीस ही रखें क्‍योंकि यह मौत की निशानी और निष्क्रियता का प्रतीक है।

3. नटराज- गुस्‍से में नांचते हुए शिव का प्रतीक लगभग हर क्‍लासिकल डांसर के घर पर रखी होती है। पर सिक्‍के के दो पहलु होते हैं। एक ओर शिवा अपने नांच में जबरदस्‍त कला का रुप दिखा रहें हैं तो वहीं पर दूसरी ओर यह नृत्‍य विनाश का प्रतीक भी है। इसलिये आपको यह विनाश का प्रतीक अपने घर पर रखने से बसना चाहिये।

4. डूबती नांव- यह एक और छवि है जिसे आपको अपने घर पर नहीं रखनी चाहिये। डूबती हुई नांव परिवारजनों के बीच के संबन्‍ध को बिगड़ती है। इसलिये अगर आपके घर पर ऐसी कोई चीज है तो उसे निकाल फेकिये।

5. पानी का फुहारा- जिस तरह से आप अपने घर को सजाती हैं, उससे आपके व्‍यक्‍त्तिव के बारें में खूब पता चलता है। अगर आपको पानी से प्‍यार है और आपके घर में पानी का फुहारा लगा है तो उसे निकाल दें, क्‍योंकि यह बहाव को दर्शाता है। यह दिखाता है कि अगर आपके पास पैसा है तो वह ज्‍यादा दिनों तक रुकने वाला नहीं है और समय के साथ बह जाएगा।

6. जंगली जानवर- घर में किसी भी जंगली जानवर का फोटो या शोपीस नहीं लगाना चाहिये। ये प्राकृति में जंगली पन को बढ़ावा देते हैं और घर में परिवारजनों के नेचर में हिंसक दृष्टिकोण पैदा करते हैं। 




                                                                         





0 comments:

Post a comment