slide

Wednesday, 20 February 2013

गौ-महिमा


गौ-महिमा

गाय की रक्षा, देश की रक्षा।
गाय मानवजीवन के लिए बहुत ही हितकारी है। शास्त्रों में गाय को माता कहा गया है।
गाय का दूध एक उत्कृष्ट प्रकार का रसायन (टॉनिक) है, जो शरीर में पहुँचकर रस, रक्त मांस, मेद, अस्थि, मज्जा और वीर्य को समुचित मात्रा में बढ़ाता है।

जर्सी गाय के दूध से सावधान ! राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (अमेरिका) के अनुसार जर्सी गाय का दूध कैंसर करता है। जर्सी गाय के दूध, दही, घी से परहेज करें।

"हम गाय को नहीं पालते, गाय हमें पालती है।" पूज्य बापू जी।


पौष्टिकता की खान गाय का दूध


8 प्रकार के प्रोटीन्स, 6 प्रकार के विटामिन्स, 21 प्रकार के एमिनो एसिड, 16 प्रकार के नाइट्रोजन यौगिक, 2 प्रकार की शर्करा, 4 प्रकार के फॉस्फोरस यौगिक

मुख्य खनिज लोहा, कैल्शियम, ताँबा, सोना, फ्लोरिन, आयोडीन, सिलिकॉन
कत्लखाने में ले जा रही हजारों गायों को बचाया गया एवं गोझरण, गोबर आदि से धूपबत्ती, खाद, फिनायल, औषधियाँ आदि का निर्माण कर गौशालाओं का निर्माण कर गौशालाओं को स्वावलम्बी बनाया गया।

गौरक्षा एवं गौपालन की मिसालः संत श्री आशारामजी गौशालाएँ
बच्चों ने लगायी गौ-हत्या पर रोक

पूज्य बापू जी के बाल, छात्र व कन्या मंडलों के विद्यार्थियों ने गौ-रक्षार्थ रैली निकाली, जिससे छत्तीसगढ़ प्रशासन ने कृषक पशुओं के रक्षण के लिए अधिनियम प्रस्तावित किया।




0 comments:

Post a Comment