Thursday, 7 February 2013

सूर्य-शक्ति का प्रभाव



सूर्य-शक्ति का प्रभाव

सूर्य शक्तिवर्धक और बुद्धि-विकासक है।

हररोज प्रातःकाल में सूर्योदय से पहले स्नानादि से निवृत्त होकर खुले मैदान में अथवा घर की छत पर जहाँ सूर्य का प्रकाश ठीक प्रकार से आता हो वहाँ नाभि का भाग खुला करके सूर्योदय के सामने खड़े रहो। तदनंतर सूर्यदेव को प्रणाम करके, आँखें बंद करके चिंतन करो किः
'जो सूर्य की आत्मा है वही मेरी आत्मा है। तत्वतः दोनों की शक्ति समान है।'
फिर आँखें खोलकर नाभि पर सूर्य के नीलवर्ण का आवाहन करो और इस प्रकार मंत्र बोलोः

ॐ सूर्याय नमः। ॐ मित्राय नमः। ॐ रवये नमः। ॐ भानवे नमः। ॐ खगाय नमः। ॐ पूष्णे नमः। ॐ हिरण्यगर्भाय नमः। ॐ मरीचये नमः। ॐ आदित्याय नमः। ॐ सवित्रे नमः। ॐ अर्काय नमः। ॐ भास्कराय नमः। ॐ श्रीसवितृसूर्यनारायणाय नमः।





0 comments:

Post a comment